Class 1 Hindi Chapter 18 : Choti Ka Kamaal

Class 1 Hindi Chapter 18 : Choti Ka Kamaal

Class 1 Hindi Chapter 18 : Choti Ka Kamaal

This video will help children to learn their CBSE school syllabus of Hindi Language. CBSE Class 1 Hindi | Chapter 18 : छोटी का कमाल – Hindi Rhymes For Kids | | Choti Ka Kamaal | NCERT | CBSE Syllabus | Rhymes For Kids | Hindi Poem For Kids | Lesson 18 | Catrack Kids TV

कविता – छोटी का कमाल

समरसिंह थे बहुत अकड़ते छोटी कितनी छोटी

मैं हूँ आलू भरा पराँठा छोटी पतली रोटी

मैं हूँ लंबा, मोटा तगड़ा छोटी पतली दुबली

मैं मोटा पटसन का रस्सा छोटी कच्ची सुतली

लेकिन जब बैठे सी-सॉ पर, होश ठिकाने आए

छोटी जा पहुँची छोटी पर समरसिंह चकराए।

अभ्यास

कौन ऊपर जाएगा, कौन नीचे रह जाएगा

हाथी या चूहा

शेर या बिल्ली

गोला लगाओ

समरसिंह बहुत अकड़ते थे। इनमे से कौन कौन आकड़ेगा

राजा

कक्षा का मॉनीटर

सुहानी

पहलवान

शेर

चोर

तुम्हारा दोस्त

छोटी का कमाल’ कविता के कवि सफ़दर हाश्मी हैं। इस कविता में उन्होंने एक मोटे लड़के और एक पतली लड़की का बड़े ही चुटीले शब्दों में वर्णन किया है। कवि कहता है कि समरसिंह नामक एक लड़का अपने मोटापे पर बहुत घमंड करता था। वह ‘छोटी’ नामक एक दुबली-पतली लड़की को हेय दृष्टि से देखता था। वह अपने को आलू भरा पराँठा और छोटी को पतली रोटी कहता था। वह अपने को लंबा, मोटा-तगड़ा तथा मोटा पटसन का रस्सा समझता था, जबकि छोटी को दुबली-पतली तथा छोटी कच्ची सुतली। लेकिन जब दोनों सी-सॉ पर बैठे तो समरसिंह के होश ठिकाने आ गए। हल्की होने के कारण छोटी झूले के दूसरे हिस्से में चोटी पर पहुँच गई और समरसिंह भारी होने के कारण झूले के दूसरे छोर पर नीचे रह गया। समरसिंह की अकड़ दूर हो गई और उसका घमंड जाता रहा।

https://www.youtube.com/catrackkids

Catrack Kids Tags – Class 1 Hindi Chapter 18 : Choti Ka Kamaal

Recommended For You

About the Author: catrackkids

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *